नर्मदापुरम: पूर्व विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा के भाई गिरिजाशंकर थामेंगे कांग्रेस का हाथ  

  • कमलनाथ से हुई मुलाकात में बन गई बात
  • 1 सितंबर को पूर्व विधायक शर्मा ने छोड़ी थी भाजपा 

नर्मदापुरम। नर्मदापुरम विधायक  डॉ. सीतासरन शर्मा के बड़े भाई  नर्मदापुरम से दो बार के पूर्व विधायक पंडित गिरजाशंकर शर्मा अपने इस्तीफे के बाद अब कांग्रेस का दामन थामेंगे। पूर्व विधायक शर्मा 10 से 15 सितंबर के बीच कभी भी कांग्रेस पार्टी ज्वाइन करेंगे। 

गुरुवार को शर्मा की भाेपाल में कांग्रेस पार्टी के मुखिया प्रदेश अध्यक्ष व पूर्व सीएम कमलनाथ से मुलाकात हुई। करीब 20 मिनिट कमलनाथ के साथ गिरजाशंकर शर्मा की पार्टी ज्वाइन करने के मुद्दें पर बातचीत हुई। कमलनाथ ने गिरजाशंकर शर्मा (संझले भैया) के लिए कांग्रेस में शामिल होने की सहमति दे दी है।

दोनों के बीच हुई करीब 20 मिनिट की मुलाकात के बाद यह साफ हो गया है कि गिरिजाशंकर शर्मा 10 से 15 सितंबर के बीच कांग्रेस नेता कमलनाथ की मौजूदगी में कांग्रेस का दामन थामेंगे। गिरजाशंकर शर्मा के साथ कुछ वरिष्ठ व सक्रिय भाजपाई भी कांग्रेस का दामन थामेंगे। 

बता दे पंडित गिरजाशंकर शर्मा मध्यप्रदेश विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष व वर्तमान विधायक डॉ. सीतासरन शर्मा के भाई है। वे भाजपा से दो बार विधायक रह चुके हैं। 1 सितंबर को उन्होंने बीजेपी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दिया। गिरजाशंकर शर्मा ने कहा कि पिछले 10 साल से ज्यादा समय से पार्टी पदाधिकारी उनकी उपेक्षा कर रहे। संगठन में नए लोग आ गए हैं, जो पुराने लोगों को दरकिनार कर रहे हैं।

Former Assembly Speaker Dr. Girijashankar, brother of Sitasaran Sharma, will hold the hand of Congress

उन्होंने कहा कि पुराने नेताओं की पूछ परख नहीं की जा रही। कई बार लगा कि संगठन से बातचीत की जाए, लेकिन संगठन में भी सुनने वाला कोई नहीं। आखिरकार गुरुवार को उनकी कमलनाथ के साथ मुलाकात हुई। इसी के साथ ही स्पष्ट हो गया कि वे कांग्रेस ज्वाइन करेंगे। 

इस्तीफें के साथ ही अटकले लगाई जा रही थी कि शर्मा कांग्रेस ज्वाइन करेंगे या नहीं या किसी ओर पार्टी में जाएंगे। पूर्व विधायक पं. गिरिजाशंकर शर्मा ने कहा कि गुरुवार सुबह 10.30 बजे भोपाल में कमलनाथ के बंगले पर ही उनकी मुलाकात हुई। 

करीब 20 मिनिट तक बातचीत चली। कमलनाथ ने उनसे नर्मदापुरम विस से ही कांग्रेस की टिकट पर लडऩे के संबंध में पूछा। पं. शर्मा ने कहा कि होशंगाबाद सीट से वे चुनाव लड़ने के इच्छुक नहीं है। भाई के सामने चुनाव लड़ने से उन्होंने साफ इंकार किया। 

फिलहाल कांग्रेस ज्वाइन करेंगे। 10 सितंबर तक कोई स्लॉट खाली नहीं है। 10 सितंबर के बाद नर्मदापुरम, इटारसी, सोहागपुर और सिवनी मालवा के अपने साथियों के साथ कांग्रेस ज्वाइन करेंगे। गिरिजाशंकर के कांग्रेस में जाने की तैयारियां भी उनके समर्थकों ने शुरू कर दी है।

इधर नर्मदापुरम से भाजपा की टिकट बदलने की मांग 

नर्मदापुरम-इटारसी विधानसभा में चुनाव से पहले भाजपा से वर्तमान विधायक डॉ. सीतासरन शर्मा का जमकर विरोध सामने आने लगा है। तीन दर्जन से ज्यादा भाजपा नेता और कई सांसद समर्थक विधायक की टिकट बदलने की मांग हाईकमान से करते आ रहे है।

इसके लिए मुख्यमंत्री से भी मुलाकात की गई है। भाजपा के वरिष्ठ पदाधिकारी व  सांसद उदयप्रताप सिंह के समर्थक अब खुलकर वर्तमान विधायक डॉ. शर्मा के विरोध में खड़े नजर आ रहे है और बदलाव की मांग कर रहे हैं। प्रदेश व जिला एवं मंडल पदाधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों ने भोपाल जाकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से मुलाकात की और नर्मदापुरम विधायक डॉ. सीतासरन शर्मा को बदलकर भाजपा संगठन को बचाने की अपील गई है। मुख्यमंत्री से मिलने वालों में कई बड़े पदाधिकारी शामिल है।

Scroll to Top