नर्मदापुरम में रात के अंधेरे में रेत के अवैध उत्खनन का खेल है जारी  

नर्मदापुरम। एनजीटी की रोक के बावजूद नर्मदापुरम में नर्मदा और तवा नदी से रेत का अवैध उत्खनन नहीं रुक पर रहा है। रात के अंधेरे में रेत का खेल चल रहा है। माफिया बेखौफ होकर खदानों से रेत चोरी कर रहे। डंपर में रेत भरकर भोपाल, इंदौर, खंडवा समेत प्रदेश के अन्य शहरों में भेज रहे हैं। 

जिसे रोक पाने में नर्मदापुरम जिला प्रशासन पूरी तरह नाकाम है। रात 10 बजे से बाद खदानों से रेत के वाहन निकलकर हाईवे पर दौड़ने लगते हैं। लेकिन, राजस्व और खनिज अमले कार्रवाई करने पहुंचता है तो उससे पहले ही रेत माफियाओं का मुखबिर तंत्र मजबूत होने से खदानों से डंपर और जेसीबी गायब हो जाते या भाग जाते हैं। 

जिसे खनिज विभाग को एक, दो ही रेत से भरे वाहन मिल पाते है। शुक्रवार और शनिवार रात को भी ऐसा ही हुआ। माखननगर के मुहासा के पास रेत खदान पर खनिज एवं राजस्व टीम ने छापा मारा। 

लेकिन एक ही डम्पर टीम पकड़ पाई। दूसरा डंपर खराब हालत में मिला। जिसका एक्शल टूटा था। सूत्रों बताते है कि 5,6 डंपर खदान पर होने की जानकारी थी। लेकिन इससे पहले ही डम्पर गायब हो गए।

शनिवार देर रात को भी टीम ने कार्रवाई की। रात 2 बजे ग्राम चपलासर खनिज रेत का अवैध भंडारण एवं परिवहन में लिप्त तीन डंफर MP28H4299, MP48H5560, TS05UD1370 को जप्त किया। डंपर को कृषि उपज मण्डी प्रांगण नर्मदापुरम गार्ड की अभिरक्षा में खड़ा किया। 

इधर अवैध उत्खनन रोकने खनिज टीम ने पवारखेड़ा खुर्द, आंचलखेड़ा, मनवाडा, मोती गुराडिया और तवा पुल के पास खदानों पर पहुंचने वाले मार्गों को जेसीबी से खोद दिया गया है। ताकि खदान पर रेत चोर नहीं पहुंच पाएं। कार्रवाई में खनिज अधिकारी दिवेश मरकाम, प्रभारी खनिज निरीक्षक कृष्णकांत परस्ते, हेमंत राज, आशीष साहू एवं अमला शामिल थे।

Scroll to Top