नर्मदापुरम: नर्मदापुरम स्थित केंद्रीय जेल में नवभारत साक्षरता कैंप का हुआ आयोजन 

नर्मदापुरम। सर्व शिक्षा अभियान के तहत जिला शिक्षा केंद्र से नवभारत साक्षरता अभियान के कैंप का आयोजन केंद्रीय जिला जेल खंड अ. में निरक्षर कैदियों के चिन्हांकन करने के उद्देश्य से किया गया। कैंप में साक्षरता ब्रांड एम्बेसडर डॉ. मयंक तोमर, जेल सुपरिन्टेन्डेन्ट सतीष सिंह सोलंकी ने की, जेल प्रशासन की और से डॉ. तोमर और प्रधानपाठक राजेंद्र गुप्ता उपस्थित रहें। 

डॉ. मयंक तोमर ने इस अभियान का महत्त्व बताते हुए कहा कि कलम की शक्ति तलवार से कहीं अधिक है, इसीलिए समाज के प्रत्येक वर्ग को शिक्षित होना चाहिए। इसके साथ ही डॉ. तोमर ने कहा की हम जिला कलेक्टर से भी अनुरोध करेंगे कि जेल में ही पांचवीं आठवीं की बोर्ड परीक्षा हेतु सेंटर बनाया जाए। 

जिससे पूर्ण निरक्षर बंदी के पास भी कम से कम एक शैक्षणिक प्रमाणपत्र तो हो और जब वे जेल से रिहा हो तो कुछ सामाजिक परिवर्तन स्वयं में महसूस कर सके। जेल सुपरिन्टेन्डेन्ट सोलंकी ने बताया कि कुछ कैदियों ने भोज विश्विविद्यालय से स्नातक की डिग्री प्राप्त करने के साथ ही स्नात्तकोत्तर परीक्षा की भी तैयारी कर रहे हैं। 

इसके अतिरिक्त स्मार्टबोर्ड द्वारा फ्री एक्सेस ऑफ एजुकेशन प्रोवाइड करने वाली देश की प्रथम जेल होने का गौरव प्राप्त है। टाटास्काई से इंटरनेट कनेक्ट करके कैदियों को एड्स दिवस की जानकारी दी, पीएम की मन की बात व हल ही की चंद्रयान 2 की सफलता का सीधा प्रसारण भी दिखाया। 

नर्मदापुरम जेल प्रशासन की इन उपलब्धियों पर साक्षरता ब्रांड एम्बेसडर डॉ. मयंक तोमर ने प्रसन्नता जाहिर करते हुए समस्त जेल स्टाफ को बधाई दी और कहा कि. आगे भी ऐसे कैंप आयोजित करते रहेंगे।

अंत में उपजेल अधीक्षक प्रहलाद वरकडे ने अतिथियों के आगमन पर धन्यवाद उदबोधन दिया, इस मोके पर सहायक जेल अधीक्षक हितेश बांडिया, जैल विद्यालय के शिक्षक हरिओम सिंह व जेल स्टाफ उपस्थित रहा।

Scroll to Top