Chandrayaan-3 Update: चंद्रमा की अजब दुनिया में हुआ कुछ खास, चंद्रयान-3 ने भेजा रहस्यमय संदेश, सभी हैरान!

Chandrayaan Mission 3: दोस्तों हाल ही में भारत में अंतरिक्ष की दुनिया में बहुत बड़ी कामयाबी पाई है चंद्रयान 3 चंद्रमा की कक्षा पर स्थापित हो चुका है यह सभी सफलता का श्रेय शुरू हो जाता है।

अब चंद्रयान का अगला कदम चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करना है। आइए जानते हैं जैसे ही चंद्रयान 3  सॉफ्ट लैंडिंग करेगा उसके बाद कैसे भारत अंतरिक्ष की दुनिया में और ज्यादा उन्नति करेगा।

Chandrayaan-3 Live Tracker: हम सभी जानते हैं हाल ही में भारत ने chandrayaan-3 को लॉन्च किया है और इसरो ने अंतरिक्ष की दुनिया में यह बहुत बड़ी सफलता प्राप्त की है। शनिवार की देर शाम चंद्रमा की सतह पर चंद्रयान को सफलतापूर्वक स्थापित कर दिया है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें  14 जुलाई को हुई लॉन्चिंग के बाद chandrayaan-3 में शुक्रवार को दो तिहाई दूरी तय कर ली थी अभी तक जो भी हो रहा है। वह सभी ठीक चल रहा है लेकिन 23 अगस्त को chandrayaan-3 की चंद्रमा की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग करवाई जाएगी।

आपको यह जानकारी होगी कि पृथ्वी से 384000 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद चंद्रयान चंद्रमा की कक्षा में पहुंच गया है अब यह वहां जाकर चंद्रमा की परिक्रमा करेगा इसरो के द्वारा बताया गया है कि चंद्रयान अब चांद की 5 बार चक्कर लगाएगा। ऐसा 5 बार करने के बाद वह हर बार एक चक्कर के बाद बीच की दूरी घटती चली जाएगी और आखरी चक्कर के बाद वह चंद्रमा की सतह पर उतरेगा। 

चंद्रमा की ओर बढ़ रहा चंद्रयान-3

इसरो ने इस बात की जानकारी सभी को बता दी है कि 1 अगस्त को chandrayaan-3 पृथ्वी की कक्षा से ऊपर उठाया गया है और चंद्रमा की और बढ़ाने की प्रक्रिया को सफलतापूर्वक किया गया है इसरो ने बताया है कि उन्होंने’ ट्रांसलूनर कक्षा’ में चंद्रयान को डाल दिया है।

जिस दिन से chandrayaan-3 की लॉन्चिंग हुई है तब से chandrayaan-3 को कक्षा में ऊपर उठाने की प्रक्रिया को 5 बार पूरा किया  गया है chandrayaan-3 चंद्रमा की सतह पर जाने से पहले पृथ्वी के चक्कर लगा चुका है यह भारत का तीसरा चंद्र यान मिशन है।

चंद्रयान-3 कब लैंड होगा ?

आप सभी ने किसी ना किसी न्यूज़ पर सुना होगा कि chandrayaan-3 23 अगस्त को चांद पर सॉफ्ट लैंडिंग के द्वारा लैंड करेगा लेकिन वर्तमान समय में चांद की कक्षा में चंद्रयान को पहुंचने के बाद उसकी लेनदेन की तारीख बदल दी गई है।

भारत सरकार के केंद्रीय मंत्री डॉक्टर जितेंद्र सिंह ने दावा किया है कि अब chandrayaan-3 की लैंडिंग 1 सप्ताह के बाद होगी मतलब chandrayaan-3 की लैंडिंग का अनुमान 23 अगस्त को शुरू के द्वारा बताया गया था। लेकिन अब है आकलन गलत है क्योंकि 23 अगस्त से पहले ही chandrayaan-3 चंद्रमा पर लैंडिंग कर देगा।

  • Chandrayaan-3 धीरे-धीरे 18 दिनों तक चंद्रमा की 5 बार चक्कर लगाएगा।
  • जिस प्रकार chandrayaan-3 पृथ्वी से दूर गया था उसी प्रकार वह चंद्रमा के पास चला जाएगा।

17 अगस्त को, प्रोपल्शन मॉड्यूल से विभिन्न गतिविधियों के बाद, विक्रम लैंडर को अलग हो जाने की योजना बनाई गई है। इसके पश्चात्, विक्रम लैंडर 100 x 30 km की ऑर्बिट में जा कर स्पीड कम करने की प्रक्रिया की शुरुआत करेगा। 

अगर सब कुछ अनुकूलित रहता है, तो 23 अगस्त से पहले विक्रम लैंडर चंद्र की दक्षिणी पोल पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। लैंडिंग के बाद, रोवर प्रज्ञान, लैंडर से बाहर निकलेगा और 14 दिनों तक चंद्र पर अध्ययन करेगा। 

इस समय, प्रज्ञान रोवर चंद्रमा की सतह से सैंपल लेगा और विभिन्न परीक्षणों को आयोजित करेगा। इसी बीच, प्रोपल्शन मॉड्यूल चंद्रमा की कक्षा में रहकर धरती से आने वाले रेडिएशन्स का अध्ययन करेगा।

Scroll to Top