Chandrayaan-3: चंद्रयान-3 के ऊपर सुनहरी परत क्यों चढ़ी है? जानिए इस रहस्यमय साइंस के पीछे की बातें!

Chandrayaan 3 Landing: आज भारत अंतरिक्ष की दुनिया में ऐसा कारनामा करके दिखा दिया है कि पूरी दुनिया ने ऐसा कभी नहीं किया था जब भारत के द्वारा चंदन 3 को लांच किया था तब से हर भारतवासी के मन में बस एक ही आशा थी कि chandrayaan-3 कि चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग हो जाए और यह आज हो ही गया है.

लेकिन क्या आपको पता है चंदन 3 का लेटर और रूबर दोनों ही सुनहरी रंग की परसों की रंग से बने हुए हैं इसके पीछे का साइन एक्सपर्ट का मानना है कि इस परत का मुख्य काम सूर्य की रोशनी को परिवर्तन करना है और यान को गर्मी से बचाने का काम यह परत करती है.

chandrayaan-3 ने अंतरिक्ष की दुनिया में इतिहास रच दिया है और इसने बुधवार को चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग कर ली है जैसे ही chandrayaan-3 की सॉफ्ट लैंडिंग हुई भारत की स्पेस की शक्ति और ज्यादा बढ़ गई है लेकिन लोगों के मन में बस एक ही सवाल है कि चंद्रयान श्री के ऊपर सुनहरी परत को चढ़ी हुई है.

यहां तक कि इसरो विक्रम लैंडर और प्रज्ञान रोवर की जो तस्वीर शेयर की है उसमें भी दिख रहा है कि इसके बाहरी परत पर किसी विशेष सुनहरी रंग की पर चढ़ी हुई है आखिर इसका क्या कारण है और इसके पीछे की साइंस क्या कहती है इसके बारे में आइए जानते हैं.

सुनहरी परत के पीछे का साइंस बड़ा दिलचस्प

दरअसल, चंद्रयान-3 के लैंडर और रोवर दोनों ही सुनहरी रंग की परतों से ढके हुए हैं। इसके पीछे का साइंस बहुत दिलचस्प है. विशेषज्ञों का मानना है कि इन परतों का मुख्य काम सूर्य की रोशनी को परिवर्तित करना होता है और यान को गर्मी से बचाने का काम ये परतें करती हैं. 

पृथ्वी से अंतरिक्ष तक की यात्रा के दौरान, तापमान तेजी से बदलता है. इसके अलावा, गर्मियों में अचानक तापमान वृद्धि से उपकरण बंद हो सकते हैं, और ऐसे में ये सुनहरी परतें इसे सुरक्षा प्रदान करती हैं. हालांकि यह परत पूरे यान पर नहीं लगाई जाती, लेकिन जहां जरूरत होती है, वहां इसका प्रयोग किया जाता है.

Scroll to Top